Wednesday, February 17, 2010

गुरु-महिमा

गुरु चरणों से प्रीति नहीं तो, जीना हैं किस काम का.
जीवन को विषयों में गंवाया, क्यों सोचे उस धाम का.
रूपवान, सत्कीर्तिवान, धनवान हुआ तो क्या पाया?
सुन्दर पत्नी,धन-दौलत,घर,पुत्र-पौत्र में है खोया,
गुरु चरणों में ध्यान लगा ले, हटे मोह संसार का.
गुरु चरणों से प्रीति नहीं तो................................1
वेद पढ़े, शत-शास्त्र पढ़े पर, गुरु की शरण कभी न गया,
तीरथ सारे किये मगर, मन-मंदिर का दर्शन न किया,
गुरु चरणों का सेवक बन, तो खुले द्वार प्रभु-धाम का.
 
गुरु चरणों से प्रीति नहीं तो..................................2
देश-विदेशों में घूमा, राजा - महाराजा कहलाया,
सदाचार भरपूर किया पर, गुरु - प्रसाद नहीं पाया,
गुरु कृपा को समझ रे बन्दे, सेवक बन गुरु-पाद का.

 गुरु चरणों से प्रीति नहीं तो...............................3
सुख-ऐश्वर्यों में रहा सदा और, दान-पुण्य भी खूब किया,
गुरु कृपा द्रष्टि भी मिली पर, गुरु चरणों से दूर रहा,
समय है अब भी जाग रे प्राणी, याचक बन गुरु प्रेम का.
 
गुरु चरणों से प्रीति नहीं तो.................................4
मन, भोग-योग-धन-सत्ता से, तेरा विचलित एक पल न हुआ,
हर पल सयंम से अटल रहा, पर गुरु चरणों को भूल गया,
ऐसा संयम और अटलता, फिर तेरे किस काम का.

गुरु चरणों से प्रीति नहीं तो........................................5
मन, धन-भवन-, रूप-योवन, और माया में आसक्त नहीं,
भोग और विषयों से दूर, गुरु चरणों में आसक्ति नहीं,
ऐसा त्याग और निष्ठा फिर, नहीं रहे कुछ काम का.
गुरु चरणों से प्रीति नहीं तो....................................6
राजा हो या रंक अगर मन, गुरु चरणों में रमा रहे,
पुण्य करे, सतसंग करे और, गुरु चरणों के पास रहे,
गुरु आज्ञा का पालन करले, दर्शन हो घनश्याम का.

गुरु चरणों से प्रीति नहीं तो.....................................7
ज्ञानी विद्वान् हो कितना भी, गुरु बिन भाव पार नहीं होता,
जनम-जनम दुनियां माया में, भटक-भटक रोता रहता,
राम, कृष्ण के जैसा तू भी, सेवक बन गुरु देव का.
गुरु चरणों से प्रीति नहीं तो......................................8

3 comments:

Anonymous said...

bilkul sahi likha hai aapne....guru to guru hi hota hai.....guru gobind douu khade kake lago paye.....ye to aapne pada hi hoga.....

Sandeep said...

niceeeeeeeeeeeee

Suraj Kuhikar said...

Wonderful, heart touching words